शुक्रवार, अगस्त 12

परिभाषाएं हम गढ़ते हैं


परिभाषाएं हम गढ़ते हैं

खुद से ही मिलते रहते हैं
जब भी हम बाहर जाते हैं !

दुनिया पल-पल बदल रही है
परिभाषाएं हम गढ़ते हैं !

रटते-रटते ब्रहम सूत्र भी
सिमटे-सिमटे हम रहते हैं !

खुले कान मेहर कुदरत की
अक्सर खुद को ही सुनते हैं !

स्वप्न निरंतर मन में उगते
जग पर उनको ही मढ़ते हैं !



कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें