शनिवार, जून 7

तृषित उर को पोषता सा


तृषित उर को पोषता सा


अनदिखा है मीत कोई
अनलिखा है गीत कोई,
दौड़ती रग-रग में जैसे
अनछुई सी प्रीत कोई !

एक मादक शाम हो ज्यों
गोपियों का गाम हो ज्यों,
रम रहा हर रोम में जो
जानकी का राम हो ज्यों !

कार्तिक की धूप जैसा
कामिनी के रूप जैसा,
 तृषित उर को पोषता सा
 मधुर जल के कूप जैसा !

राह का साथी बना हो
पेड़ पीपल का घना हो
पोंछ देती हर उदासी
विरह की सी वेदना हो !




9 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन कब होगा इंसाफ - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिल को छूने वाली कविता

    उत्तर देंहटाएं
  3. कार्तिक की धूप जैसा
    कामिनी के रूप जैसा,
    तृषित उर को पोषता सा
    मधुर जल के कूप जैसा !

    वाह वाह।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सार्थक व् सुन्दर अभिव्यक्ति .बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. मन का नीरव कोना
    जिसमें गूँजे उसका मौन
    तहखानों में धूप बिखेरे
    मेरा अपना कौन
    नयनों से ओझल है किन्तु
    बजाये मन के तार ।।

    उत्तर देंहटाएं