मंगलवार, मार्च 13

मुक्ति के सँग बंधन भी है


मुक्ति के सँग बंधन भी है


सोते-सोते युग बीते हैं
अब तो जाग जरा मन मेरे,
चौराहे पर आ पहुँचा है
ठिठके कदम भला क्यों तेरे !

जाने कब यह नैन मुंदेगें
उससे पूर्व नहीं खिलना है ?
सुरभि लिये क्या जाना जग से
बन सूरज जग से मिलना है !

कुदरत तेरी ओर निहारे
इक संकल्प जगा कर देख,
मंजिल राह तका करती है
खींच क्षितिज तक रक्तिम रेख !  

 तज दे तंद्रा सुबह सामने
इक उड़ान भर छूले अम्बर,
दुःख चादर को झट उतार दे
सुख समीर बह रही झूमकर !

अलस बिछौना कब तक भाए
फूलों के सँग कंटक भी हैं,
घटे नहीं जागरण जब तक
मुक्ति के सँग बंधन भी है !

10 टिप्‍पणियां:

  1. अपलक पढता रहा समझता, रहस्य सार गीता का |
    श्लोक हो रहे रविकर अक्षर, है आभार अनीता का ||

    दिनेश की टिप्पणी : आपका लिंक

    dineshkidillagi.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह कितना सुन्दर और सहज उद्बोधन्।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर...
    आज के युवा वर्ग के लिए एक सार्थक सन्देश देती है आपकी रचना...

    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सोते-सोते युग बीते हैं
    अब तो जाग जरा मन मेरे,

    मन जगाता हुआ आह्वान .....
    बहुत सुंदर लिखा है अनीता जी ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. मुक्ति के सँग बंधन भी है !

    वाह बहुत ही सुन्दर मुक्ति के संग बंधन भी हैं इस एक पंक्ति में बहुत गहन सत्य छिपा है .........हैट्स ऑफ इसके लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस कविता को पढ़कर एक भावनात्मक राहत मिलती है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अलस बिछौना कब तक भाए
    फूलों के सँग कंटक भी हैं,
    घटे नहीं जागरण जब तक
    मुक्ति के सँग बंधन भी है !

    अद्भुत.....!

    उत्तर देंहटाएं
  8. सजी मँच पे चरफरी, चटक स्वाद की चाट |
    चटकारे ले लो तनिक, रविकर जोहे बाट ||

    बुधवारीय चर्चा-मँच
    charchamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुख समीर बह रही झूमकर
    उड़ान भरो बस अम्बर चूमकर ..ऐसे ही राह दिखाती रहें आप..आपको नमन..

    उत्तर देंहटाएं