गुरुवार, मार्च 1

अपनी अपनी जेल


अपनी अपनी जेल


कोई जेलर बनता है अपनी इच्छा से
जेल में वह भी आता है
और कैदी को लाया जाता है उसकी इच्छा के विरुद्ध
ऐसा लगता है ऊपर-ऊपर से,
पर कैदी भी अनजाने में
क्या इच्छा नहीं कर रहा था इसी की....

जेलर आनन्दित है
ऐसा दिखता है ऊपर-ऊपर से
पर उसके दुःख भी वैसे ही हैं
मात्रा कम या अधिक हो सकती है
दुःख सताते हैं उसे भी
आखिर कैदी है वह भी
एक बड़ी जेल का, जिसका जेलर दिखाई नहीं देता
जो तभी मुक्त करता है
जब कैदी उसके जैसा बन जाता है
क्यों कि वह जेल बनायी है उसने स्वयं ही....

11 टिप्‍पणियां:

  1. गहन अभिव्यक्ति .... जो जेलर दिखाई नहीं देता उसके नियम बहुत कठोर हैं ..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. संगीता जी, उसके नियम तो बहुत सरल हैं पर मानव कठिन बना लेता है.

      हटाएं
  2. बहुत सुन्दर जेलर और कैदी.......गहन अभिव्यक्ति...शानदार पोस्ट।

    उत्तर देंहटाएं
  3. गहरी बात कह डाली आपने..
    जेलर की तो सजा का समय भी नियत नहीं...रिहाई जाने कब हो...
    सुन्दर भाव..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जेलर की सजा उसके खुद के हाथ में है जिस क्षण वह जाग जाये जेल से बाहर हो सकता है...आभार विद्या जी.

      हटाएं
  4. एक बड़ी जेल जिसका जेलर दिखाई न देता
    गहन आध्यात्मिक अभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  5. मनोज जी, वह बड़ी जेल वास्तव में हमारा मन ही तो है, आभार !

    उत्तर देंहटाएं