बुधवार, मार्च 28

एक नगमा जिन्दगी का


एक नगमा जिन्दगी का


एक दरिया या समन्दर
बह रहा जो प्रीत बनकर,
बाँध मत बाँधें तटों पर
उमग जाये छलछलाकर !

एक प्यारी सी हँसी भी
कैद है जो कन्दरा में,
कसमसाती खुदबुदाती
बिखर जाएगी जहाँ में !

एक नगमा जिन्दगी का
शायराना इक फसाना,
दिलोबगिया में दबा जो
बीज महके बन तराना !

एक जागी रात आये
ख्वाब नयनों में सजाये,
दूर से आती सदा को
ला निकट कुहु गीत गाये !

एक नर्तन आत्मा का
ढोल की थापें अनूठी,
बाल दे अनुपम उजाला
बाँसुरी, वीणा की ज्योति

19 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 29.3.2018 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2924 में दिया जाएगा



    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार दिलबाग जी !

      हटाएं
  2. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन गुरु अंगद देव और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार हर्षवर्धन जी !

      हटाएं
  3. एक नर्तन आत्मा का
    ढोल की थापें अनूठी,
    बाल दे अनुपम उजाला
    बाँसुरी, वीणा की ज्योति

    ...सच में आत्मिक आनंद ही जीवन की खुशियों का मूल मंत्र है...बहुत मनभावन प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहा है आपने कैलाश जी, स्वयं के भीतर जाकर ही परमात्मा की झलक मिलती है..स्वागत व आभार !

      हटाएं
  4. सच है ज़िंदगी का असल नग़मा तो यही है ... प्राकृति में छुपा ... समुन्दर की लहरों में झूमता आत्मा में उतरता पवन से गुंजित गीत ...
    बहुत ही सुंदर भावनात्मक गीत ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदरणीय / आदरणीया आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद मंच पर 'सोमवार' ० २ अप्रैल २०१८ को साप्ताहिक 'सोमवारीय' अंक में लिंक की गई है। आमंत्रण में आपको 'लोकतंत्र' संवाद मंच की ओर से शुभकामनाएं और टिप्पणी दोनों समाहित हैं। अतः आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    निमंत्रण

    विशेष : 'सोमवार' ० २ अप्रैल २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच अपने सोमवारीय साप्ताहिक अंक में आदरणीय 'विश्वमोहन' जी से आपका परिचय करवाने जा रहा है।


    अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक नर्तन आत्मा का
    ढोल की थापें अनूठी,
    बाल दे अनुपम उजाला
    बाँसुरी, वीणा की ज्योति!!!!!!!
    बहुत सुंदर सुंदर प्रीत भरी रचना !!!!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपका भाव सदा उसी ज्योति को बिखेरे । नमन आपको ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. स्वागत व आभार अमृता जी ! इस बार बहुत दिनों बाद आपका आना हुआ

      हटाएं