गुरुवार, सितंबर 5

वक्त की चादर


वक्त की चादर


सामने बिछी है वक्त की चादर
अपनी चाहतों के बूटे काढ़ सको
तो काढ़ लो !
क्योंकि वक्त..
मुट्ठी से रेत की तरह
फिसल जायेगा
 और फिर कीमत चुकानी होगी
निज स्वप्नों से !

सुंदर, श्वेत चादर पर
 रंगीन बूटे
हौसला बढ़ाएंगे दूर तक
साथ रहेगी उनकी सुघड़ता
खुशनुमा हो जाएगा  सफर
 रेशमी धागों की सरसराहट से !

 सिमट जाये ये चादर इसके पूर्व
 उकेर दो... अपनी चाहतों के बूटे !



21 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया प्रस्तुति -
    आभार आपका-

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपने लिखा....हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें; ...इसलिए शनिवार 07/089/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.... आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है ..........धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह कितने सुन्दर बिम्ब हैं..... शानदार

    उत्तर देंहटाएं
  4. सिमट जाये ये चादर इसके पूर्व
    उकेर दो... अपनी चाहतों के बूटे !

    ...बहुत सुन्दर और प्रेरक अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  5. चादर ने तो आँखों को ही थाम लिया..आह...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर है यह रचना वक्त कब किसका इंतज़ार करता है जो करना है कर डालो।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर सन्देश । वस्तुतः हमें हर दिन को नया जन्म समझना चाहिए ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    हैल्थ इज वैल्थ
    पर पधारेँ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस कविता में यथार्थ और कल्पना का अद्भुत समन्वय है. वक़्त की धीरे-धीरे सिमटती चादर और बूटे काढ़ते लोगों के बारे में सोचना मन को ख़ुशी ही देता है. कविता की सहजता के बाद भी रचना की गहराई कम नहीं होती है. बूटे काढ़ने के साथ-साथ निकालने वालों की मोजूदगी जीवन को सच के समीप लाती है. लेकिन उम्मीद की रौशनी बेहतर करने की प्रेरणा देती है.बेहतरीन.बहुत-बहुत शुक्रिया सुंदर रचना के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. वृजेश जी, स्वागत व आभार इस सुंदर टिप्पणी के लिए..

      हटाएं
  11. आप सभी सुधी जनों का तहे दिल से आभार !

    उत्तर देंहटाएं