मंगलवार, मार्च 4

आना वसंत का

आना वसंत का

जब नहीं रह जाती शेष कोई आशा
 निराशा के भी पंख कट जाते हैं तत्क्ष्ण !
जब नहीं रह जाती ‘मैं’ की धूमिल सी छाया भी
उसकी झलक मिलने लगती है उसी क्षण
निर्भर, निर्मल वितान सा जब फ़ैल जाता है
मन का कैनवास
 प्रेम के रंग बिखेर जाता है कोई अदृश्य हाथ
माँ की तरह साया बन कर चेताती चलती है
छंद मयी हो जाती है कायनात !
छूट जाते हैं जब सारे आधार
तब ही भीतर कोई कली खिलती है
बज उठते हैं मृदंग और साज
जुड़ जाते हैं जाने किससे अंतर के तार !
जब पक जाता है ध्यान का फल भी
झर जाता है जन्मों का पतझड़
और उतर आता है चिर वसंत जीवन में !



8 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्तर
    1. स्वप्न एक दिन सच होने ही वाला है..

      हटाएं
  3. अहम अहंकार मैं और मेरा का ज़रूरी है :


    जब नहीं रह जाती शेष कोई आशा
    निराशा के भी पंख कट जाते हैं तत्क्ष्ण !
    जब नहीं रह जाती ‘मैं’ की धूमिल सी छाया भी
    उसकी झलक मिलने लगती है उसी क्षण
    निर्भर, निर्मल वितान सा जब फ़ैल जाता है
    मन का कैनवास

    (तत्क्षण )सुन्दर मनोहर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रेम के रंग बिखेर जाता है कोई अदृश्य हाथ
    माँ की तरह साया बन कर चेताती चलती है
    छंद मयी हो जाती है कायनात !
    छूट जाते हैं जब सारे आधार
    तब ही भीतर कोई कली खिलती है
    बज उठते हैं मृदंग और साज
    अप्रतिम बिम्ब विधान

    उत्तर देंहटाएं
  5. स्वागत व आभार, वीरू भाई !

    उत्तर देंहटाएं
  6. उसी चिर बसंत की प्रतीक्षा है..

    उत्तर देंहटाएं