गुरुवार, दिसंबर 26

वक्त चुराना होगा

नया वर्ष आने पर हम हर बार संकल्प लेते हैं, नियमित भ्रमण और व्यायाम करेंगे, नियमित योग और ध्यान करेंगे, नियमित अध्ययन और लेखन करेंगे, किन्तु कुछ दिनों बाद जब जीवन अपने पुराने क्रम में आ जाता है तो सबसे पहले यही शब्द निकलते हैं, क्या करें समय ही नहीं मिलता. मुझे लगता है आने वाले वर्ष में यदि हम जीवन में कुछ सकारात्मक बदलाव चाहते हैं तो हमें अपने लिए कुछ वक्त चुराना होगा।


वक्त चुराना होगा !

काल की तरनि बहती जाती 
तकता तट पर कोई प्यासा,
सावन झरता झर-झर नभ से 
मरुथल फिर भी रहे उदासा ! 

झुक कर अंजुलि भर अमृत का भोग लगाना होगा 
वक्त चुराना होगा !

समय गुजर ना जाए यूँ ही 
अंकुर अभी नहीं फूटा है,
सिंचित कर लें मन माटी को 
अंतर्मन में बीज पड़ा है !

कितने रैन-बसेरे छूटे यहाँ से जाना होगा 
वक्त चुराना होगा !

कोई हाथ बढ़ाता प्रतिपल 
जाने कहाँ भटकता है मन, 
मदहोशी में डुबा रहा है 
मृग मरीचिका का आकर्षण !

उस अनन्त में उड़ना है तो सांत भुलाना होगा 
वक्त चुराना होगा !

जग की नैया सदा डोलती 
हिचकोले भी कभी लुभाते, 
जिन रस्तों से तोबा की थी 
लौट-लौट कर उन पर आते !

नई राह चुनकर फिर उस पर कदम बढ़ाना होगा 
वक्त चुराना होगा !



20 टिप्‍पणियां:

  1. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार २७ दिसंबर २०१९ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर ! आशा, साहस और ऊर्जा का सार्थक सन्देश !

    जवाब देंहटाएं
  3. "झुक कर अंजुलि भर अमृत का भोग लगाना होगा
    वक्त चुराना होगा !"... एक तरफ हम क़ुदरत से अँजुरी भर एहसास के पल चुराते हैं और दूसरी ओर वह हमारी साँसों और स्पन्दन को ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जब वह और हम एक हो जाते हैं, दो रह ही नहीं जाते तब तो सदा हम ही भरे जाते हैं .. आभार !

      हटाएं
  4. अनिता जी वक्त चुराने लग गया हूं पर आपकी कविता ने सारी अचेतना, बहाने, आलस्य सब चुरा लिया है। उम्दा कविता
    सहेज लिया है इसे.......

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. वाह, तब तो यह कविता अपने उद्देश्य में सफल सिद्ध हुई है, आभार !

      हटाएं
  5. नई राह चुनकर फिर उस पर कदम बढ़ाना होगा 
    वक्त चुराना होगा.....
    बहुत ही सुंदर सृजन ,सादर नमन

    जवाब देंहटाएं
  6. खुद के लिए बहुत जरूरी है समय निकालना ... खो जाता है नहीं तो इंसान भीड़ में ...
    आत्मचिंतन की राह मुक्ति का द्वार है ...
    नव वर्ष की अग्रिम शुभकामनायें ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपको भी नव वर्ष की शुभकामनायें ! स्वागत व आभार !

      हटाएं
  7. Thanks For Sharing This Article
    I am Reading Daily Your Posts
    Keep Up Daily Upadate
    Read More About Jio Phone Recharge Plan List Detail 2020 - 2021

    जवाब देंहटाएं
  8. aapka article bahut hi achha hai.
    Me aapka har Ek Article Read karta Hu
    Aise Hi Aap Article Likhte Rahe
    Read More About Google Ka Meaning Kya Hai Aur Kisne Banaya In Hindi

    जवाब देंहटाएं