शुक्रवार, दिसंबर 21

जहाँ नारी का अपमान होता है....



जहाँ नारी का होता है अपमान

जैसे क्रूस पर चढ़ा हो कोई मसीहा
औरों के लिए..
माथे पर काँटों का मुकुट धारे
जिससे टपकती हो रक्त की धारा
हाथों-पैरों में चुभोये गए नश्तर...

व्यर्थ नहीं जायेगा उसका बलिदान भी
जूझ रही जो अस्पताल के कमरे में
बचायेगी हजारों मासूमों को
 उसकी यह पीड़ा
बहरों के कानों के लिए बनी बम
सोते हुओं को जगाने के लिए
काली की चीत्कार...
मांगती है इंसाफ
उसके लहू की हर बूंद
न सिर्फ खुद पर हुए जो अनाचार  
वरन हर वह पुकार  
जो घुट कर रह गयी होगी
दरिंदों के सामने..

बस अब और नहीं..
वह बनी है मिसाल
सहकर जख्म जिस्मोरूह पर..
चढ़ी है सूली पर
 ताकि चैन से जी सकें
भारत की नारियां...
वरना कहता ही रहेगा 
हर नारी का आत्म सम्मान
नहीं आना उस देश में
जहाँ नारी का होता है अपमान...






19 टिप्‍पणियां:

  1. सच है ... उसकी कुर्बानी से जनचेतना तो आई ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. संगीता जी, आपने सही कहा है, देश के हर छोटे-बड़े शहर में हो रहे विरोध प्रदर्शन इसके गवाह हैं..

      हटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (22-12-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सही बात कही है आपने .सार्थक भावनात्मक अभिव्यक्ति फाँसी : पूर्ण समाधान नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  4. सार्थक.......बदलाव लाना ही होगा.......

    उत्तर देंहटाएं
  5. उसकी कुर्बानी के साथ इंतजार है, अपराधियों को मिलने वाली ऐसी सजा की जिससे ऐसे अपराध के बारे में सोचकर भी अपराधियों की रूह कांप उठे....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही है, जब तक अपराध करने के बाद अपराधी खुले घूमते रहेंगे तब तक ऐसे अपराध कम नहीं होंगे..

      हटाएं
  6. जन चेतना जागृत करती सार्थक रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  7. अनिता जी ,कोई ऐसा युग बताइये जब पुरुष के संरक्षण में नारी अपमानित न हुई हो ,उस पर संदेह न किया गया हो .
    परम समर्थ भवानी ही सबके सम्मान की अधिकारिणी होती है!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रतिभा जी, नारी का अपमान क्या माँ भवानी का अपमान नहीं ? भवानी शक्तिस्वरूपा है जो हर नारी की आत्मा में समोई है, हमें अपने भीतर की उस शक्ति को जगाना होगा..नारी का अपमान मानवता का अपमान भी है, क्योंकि वह जननी है.

      हटाएं
  8. सार्थक रचना ... चेतना आनी होगी जन जन में ... ऐसे कृत्य रोकने होंगे ... नारी चंडिका बने ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिगम्बर जी, अपने सही कहा है, अब वक्त आ गया है नारी को अपनी रक्षा स्वयं करनी सीखनी होगी

      हटाएं
  9. नारी का अपमान ..बस अब और नहीं..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अमृता जी, यही उचित है अब और नहीं...

      हटाएं
  10. सही बात कही है आपने बदलाव लाना ही होगा....!

    उत्तर देंहटाएं