सोमवार, फ़रवरी 11

सभी जोड़ों को समर्पित जिनके विवाह की सालगिरह इस हफ्ते है


कल बड़े भैया-भाभी के विवाह की वर्षगाँठ है, यह कविता उनके साथ उन सभी के लिए है जिनके विवाह की सालगिरह इस हफ्ते है. 

विवाह की वर्षगाँठ पर 

स्वर्ग में तय होते हैं रिश्ते
सुना है ऐसा, सब कहते हैं,
जन्नत सा घर उनका जो
इकदूजे के दिल में रहते हैं !

जीवन कितना सूना होता
तुम बिन सच ही हम कहते, 
खुशियों की इक गाथा उनमें
आंसू जो बरबस बहते हैं !

हाथ थाम कर लीं थीं कसमें
उस दिन जिस पावन बेला में,
सदा निभाया सहज ही तुमने
पेपर पर लिख कर देते हैं !

कदम-कदम पर दिया हौसला
प्रेम का झरना बहता रहता,
ऊपर कभी कुहासा भी हो
अंतर में उपवन खिलते हैं !

नहीं रहे अब ‘दो’ हम दोनों
एक ही सुर इक ही भाषा है,
एक दूजे से पहचान बनी 
संग-संग ही जाने जाते हैं !

आज यहाँ आकर पहुंचे हैं
जीवन का रस पीते-पीते
कल भी साथ निभाएंगे हम
पवन, अगन, सूरज कहते हैं !


29 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर भाव .... हम तो यह मान कर चल रहे हैं कि जिनकी पिछले सप्ताह विवाह की वर्ष गांठ थी उनके लिए भी है यह रचना :):)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. संगीता जी, स्वागत है आपका..यकीनन यह रचना उनके लिए भी है..

      हटाएं
  2. आपकी यह रचना तो सभी के लिए एक तोहफा है अनिता जी ..चाहे उनके विवाह कि वर्षगाँठ कभी भी हो ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शालिनी जी, आपने तो इस कविता को बहुत मान दे दिया..यही सही..आभार !

      हटाएं
  3. बहुत बहुत प्यारी रचना....
    हमने तो मान लिया है कि जिनकी वर्षगाँठ 3 माह बाद है उनके लिए भी है ये रचना :-)

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अनु जी, लगता है आपके विवाह की वर्षगाँठ तीन माह बाद है, अग्रिम बधाई !

      हटाएं
  4. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि कि चर्चा कल मंगलवार 12/213 को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत प्यारा तोहफ़ा है अनिता जी आपके भैया भाभी को हार्दिक बधाई और शुभकामनायें
    वैसे इस 15 को हमें भी इस बंधन में बँधे 25 वर्ष पूर्ण हो जायेंगे

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. वन्दना जी, विवाह की रजत जयंती पर हार्दिक शुभकामनायें..

      हटाएं
  6. एक-दूजे से पहचान मिलती है जिसपर पवित्र रिश्ता टिकता है . मधुर रचना के लिए आपको बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अमृता जी, सही कहा है आपने..आभार!

      हटाएं
  7. अनीता जी आपकी यह रचना मुझे बेहद अच्‍छी लगी इसे मैंने अपने एक परिचित से शेयर की है आपका आभारी हूं

    उत्तर देंहटाएं
  8. नहीं रहे अब ‘दो’ हम दोनों
    एक ही सुर इक ही भाषा है,
    एक दूजे से पहचान बनी
    संग-संग ही जाने जाते हैं !

    आज यहाँ आकर पहुंचे हैं
    जीवन का रस पीते-पीते
    कल भी साथ निभाएंगे हम
    पवन, अगन, सूरज कहते हैं !

    आपकी रचना बहुत अच्छी लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  9. दउरो दउरो हो अम्मा हमार
    समधी आय गया मोरा द्वार ।
    भले बजर परे ससुरार जी
    दिनेश जी आयो मोरे द्वार ।
    दिनेश जी के ललना राम
    चैत मॉस आये मोरा गांव ।
    कमर बांधे चले हैं कमान
    पुष्पा पुष्प महल गुरुग्राम ॥

    उत्तर देंहटाएं
  10. अनीता जी बहुत ही सुंदर रचना है।आपने भैया-भाभी को शब्दों का जो अनमोल उपहार दिया है वह बहुत ही अच्छा है।आप ऐसी ही सुंदर रचनाएँ अब
    शब्दनगरी पर भी लिख सकती है जिससे यह और भी पाठकों तक पाहुच सके।

    उत्तर देंहटाएं
  11. उत्तर
    1. स्वागत व आभार निवेदिता जी !

      हटाएं