सोमवार, नवंबर 25

मनु की सन्तान को


मनु की सन्तान को


मन की झील में
आत्मकमल खिलाना है
 आदतों व संस्कारों की मिट्टी है जहाँ
वहीं से भेध कर
सुवास को जगाना है
किन्हीं रंगों को सजाना है
 छिपा है एक स्रोत मधुर
अतल गहराई में
माना होंगी चट्टानें भी मध्य में
कठिन होगी यात्रा
पर जो अपना ही है सदा से
वह सरसिज तो बाहर लाना है
अंतस की झील में जलज बसाना है 

13 टिप्‍पणियां:

  1. वहीं से भेध कर
    सुवास को जगाना है--

    बढ़िया प्रस्तुति है आदरेया-
    आभार आपका

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर भाव ...सुंदर अभिव्यक्ति .....

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर भावों की अभिव्यक्ति !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अति सुन्दर कविता ..शुभकामनाएं ..

    उत्तर देंहटाएं

  5. वाह क्या बात है शब्द सौंदर्य देखते ही बनता है रचना का शब्द चयन भी अर्थपूर्ण सौंदर्य लिए है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि कि चर्चा कल मंगलवार २६/११/१३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका वहाँ हार्दिक स्वागत है।मेरे ब्लॉग पर भी आयें ---http://hindikavitayenaapkevichaar.blogspot.in/पीहर से बढ़कर है मेरी ससुराल सखी(गीत

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर शब्दों में अव्यक्त को व्यक्त किया है आपने !
    (नवम्बर 18 से नागपुर प्रवास में था , अत: ब्लॉग पर पहुँच नहीं पाया ! कोशिश करूँगा अब अधिक से अधिक ब्लॉग पर पहुंचूं और काव्य-सुधा का पान करूँ | )
    नई पोस्ट तुम

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति..आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  9. अध्यात्म का पुट लिये सुंदर कविता। इस आत्मकमल को खिलाने के लिये करने होंगे अथक परिश्रम।

    उत्तर देंहटाएं
  10. आदतों व संस्कारों की मिट्टी है जहाँ
    वहीं से भेध कर
    सुवास को जगाना है

    बिलकुल सच कहा ये आदतें और संस्कार ही दीवार बन जाते हैं |

    उत्तर देंहटाएं
  11. रविकर जी, वीरू भाई, इमरान, माहेश्वरीजी, आशा जी, अनुपमा जी, अमृता जी, व रंजना जी आप सभी का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं