सोमवार, नवंबर 11

कोई

कोई

हर प्रातः सूर्य किरणों पर चढ़
पुहुपों के अंतर को छूकर
ओस कणों से ले नरमी
खग पाखों से ले गरमी
 कोई वसुंधरा पर उतरे !

हर साँझ रंग आंचल में भर
वृक्षों की फुनगी पर जाकर
रिमझिम फुहार से ले नमी
सतरंगी आभा पा थमी  
कोई नजर नयन में कांपे !

हर रात्रि चाँदनी वसन ओढ़
जुगनू की नीली छवि छूकर
संध्या तारे से ले चमक
ढलते सूरज से ले दमक
कोई दूर क्षितिज से झांके !

अंतर ऊष्मा से स्पन्दित हो
 पर दुःख से द्रवीभूत कातर
ले उच्छ्वासों से असीम वेग
 श्वासों से ऊर्जित संवेग
कोई कवि कंठ बन गाए !



  


20 टिप्‍पणियां:

  1. अंतर ऊष्मा से स्पन्दित हो
    पर दुःख से द्रवीभूत कातर
    ले उच्छ्वासों से असीम वेग
    श्वासों से ऊर्जित संवेग
    कोई कवि कंठ बन गाए !
    बहुत सुन्दर रचना !
    नई पोस्ट काम अधुरा है

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर...
    आपको पढ़ "कवि दिनकर" याद आते हैं.....

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया भाव-
    आभार आदरेया-

    उत्तर देंहटाएं
  4. उत्तर
    1. कालीपद जी, रविकर जी, अनु जी, यशवंत जी, सुषमा जी व राजीव जी आप सभी का स्वागत व आभार !

      हटाएं
  5. पत्तों ने नाता तोडा
    हरियाली ने मुंह मोडा
    चुभती थी शुष्क हवाऐं
    शाखों ने धीरज छोडा
    तब ठूंठ बने पेडों पर
    फूटीं कोमल मुस्कानें
    वे नूतन किसलय कब थे
    वे तेरे दो अक्षर थे ।
    उस अदृश्य ईश्वर की सत्ता सो ही आलोकित है सारा विश्व । बहुत सुन्दर कविता अनीताजी .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. वाह ! उसके अक्षर ही तो कदम कदम पर लिखे हुए हैं...आभार गिरिजा जी

      हटाएं
  6. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार १२ /११/१३ को चर्चामंच पर राजेशकुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहाँ हार्दिक स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  7. कल 13/11/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  8. अच्छी कविता किंतु शीर्षक से समझ नही आया

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मनु जी, कविता समझने की कम महसूस करने की विधा ज्यादा है..

      हटाएं
  9. प्रकृति कि ये अनुपम छटा उस एक का ही विस्तृत स्वरुप है......अति सुन्दर |

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर व शालीन वर्णन , श्री अनीता जी
    नया प्रकाशन --: जानिये क्या है "बमिताल"?

    उत्तर देंहटाएं
  11. भोर से रात्री तक का दर्शन ... प्राकृति की सत्ता को प्रणाम है ...

    उत्तर देंहटाएं