शनिवार, सितंबर 20

मरुथल मरुथल फूल खिलाना होगा

मरुथल मरुथल फूल खिलाना होगा  



पीड़ा को श्रृंगार बनाना होगा
काँटों को भी हार बनाना होगा !

चाहे जितनी हों बाधाएँ
मंजिल मिल-मिल कर खो जाये,
अंगारों से द्वार सजाना होगा
पीड़ा को श्रृंगार बनाना होगा !

मुस्कानों का भ्रम न पालें
महा रुदन का अमृत ढालें
मरुथल मरुथल फूल खिलाना होगा  
पीड़ा को श्रृंगार बनाना होगा !

सुख भरमाता आया जग को
छलता आया है हर पग को,
 दुःख का उर को गरल पिलाना होगा
पीड़ा को श्रृंगार बनाना होगा !

सच से आँखें मूंदे बैठे
अंधों बहरों को इस जग में
शंखनाद का रोर सुनाना होगा
पीड़ा को श्रृंगार बनाना होगा !

सुख की बात करें क्या उनसे
दुःख की जो चादर ओढ़े हैं,
करुणा का इक राग बहाना होगा
पीड़ा को श्रृंगार बनाना होगा !

तमस छा रहा हो जब जग में
अंधकार खड़ा हो मग में,
ज्योति पर अधिकार जताना होगा
पीड़ा को श्रृंगार बनाना होगा !



6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर भावों से रचाई है ये रचना....बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत गहरे भाव । हमारे चिन्तन व दर्शन का मूल यही स्वर है ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह...बहुत बहुत सुन्दर.....

    लयबद्ध और सार्थक भाव लिए सुन्दर रचना...
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. आशा विश्वास और स्वयं पे भरोसा रखने और आत्मविश्वास पैदा करती हुयी ओजस्वी रचना ....

    उत्तर देंहटाएं

  5. मुस्कानों का भ्रम न पालें
    महा रुदन का अमृत ढालें
    मरुथल मरुथल फूल खिलाना होगा
    पीड़ा को श्रृंगार बनाना होगा !

    सशक्त ज्ञेय (गेय )अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  6. संजय जी, अनु जी, दिगम्बर जी,वीरू भाई और गिरिजा जी, आप सभी का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं