मंगलवार, सितंबर 2

गंगा बहकर जाये सागर

गंगा बहकर जाये सागर


घोर घटाओं में विद्युत् जब
चमक चमक लहरा कर गाती,
गिरने लगतीं बूंदें तड़ तड़
गर्जन घन की नहीं डराती !

घटाटोप सा छाता नभ पर
खो जाती वह शुभ्र नीलिमा,
दूर कहीं से हंसों की इक
पंक्ति फर से उड़ती जाती !

पवन भीग कर थिर हो जाता
हौले-हौले पात डोलते,
चहबच्चों में भर जाता जल
बूँदें गिर कर वृत्त बनातीं !

कुछ निशब्द घास पर गिरतीं
धातु पर कुछ शोर मचातीं,
ध्वनि अनेक जल धार एक है
हर शै उसकी गाथा गाती !

वृष्टि का क्रम चलता अविरत
धरा लहक लहक मुस्काती,
गंगा बहकर जाये सागर
सागर से ही जल भर लाती !




6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवार के - चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. उसी भंडार से आता है वृष्टि का जल और उसी में समा जाता है ,
    सृष्टि का क्रम भी तो यही है .

    उत्तर देंहटाएं
  3. वर्षा की बूंदों के संगीत सी बहुत मधुर और प्रभावी अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  4. आलम्बन रूप में वर्षा का मनोहर चित्रमय वर्णन है । घटाओं का छाना , नीलाम्बर का खोजाना , और श्यामाभा के बीच हंसों की पंक्ति ..एक सुन्दर दृश्य दिखाई दे रहा है । बहुत सुन्दर ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. रविकर जी, प्रतिभा जी कैलाश जी व गिरिजा जी, आप सभी सुधी पाठकों का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह...सुन्दर पोस्ट...
    समस्त ब्लॉगर मित्रों को हिन्दी दिवस की शुभकामनाएं...
    नयी पोस्ट@हिन्दी
    और@जब भी सोचूँ अच्छा सोचूँ

    उत्तर देंहटाएं