सोमवार, जून 8

रौशनी का दरिया


चलना है बहुत पर पहुँचना कहीं नहीं  
किताबे-जिंदगी में आखिरी पन्ना ही नहीं

घर जिसे माना निकला पड़ाव भर
सितारों से आगे भी है एक नगर

दिया हाथ में ले चलना है सफर पर
साथ नहीं कोई न कोई फिकर कर

जुबां नहीं खोलता वह चुप ही रहता है
रौशनी का दरिया खामोश बहता है

बिन बदली बरखा बिन बाती दीपक जलता
कहा न जाये वर्तन कभी न वह सूरज ढलता  

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर, भावपूर्ण और प्रवाहमयी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. घर जिसे माना निकला पड़ाव भर
    सितारों से आगे भी है एक नगर

    बहुत उम्दा.......वाह्ह्ह्ह्ह्ह

    उत्तर देंहटाएं
  3. हिमकर जी, जितेन्द्र जी, देवेन्द्र जी, स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  4. स्वागत व आभार मधुलिका जी

    उत्तर देंहटाएं
  5. चित्र के साथ कविता बहुत अच्छी लगी...

    उत्तर देंहटाएं