बुधवार, अगस्त 23

अमृत बन कर वह ढलता है


अमृत बन कर वह ढलता है

उससे परिचय होना भर है
कदम-कदम पर वह मिलता है,
उर का मंथन कर जो पाले
परम प्रेम से मन खिलता है !

भीतर के उजियाले में ही
सत्य सनातन झलक दिखाता,
कण-कण में फिर वही छिपा सा 
साँस-साँस  में भीतर आता !

पहले आँसू जगत हेतु थे
अब उस पर अर्पित होते हैं
अंतर भाव पुष्प माला बन 
अंतर के तम को धोते हैं !

पात्र अगर मन बन पाए तो
अमृत बन कर वह ढलता है,
हो अर्पित यदि हृदय पतंगा
ज्योति बना अखंड जलता है !

शुभ संकल्प उठें जब मन में
भीतर इन्द्रधनुष उगते हैं,
सुंदरता भी शरमा जाये
अमल सहस्र कमल खिलते हैं !

6 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ संकल्पों के आधार पर जो इन्द्रधुनष हमारे भीतर उगते हैं, उसी अनुभव की झांकी दिखाती यह कविता।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कविता के मर्म को परखने के लिए स्वागत व आभार विकेश जी !

      हटाएं
  2. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन बलराम जाखड़ और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सत्य ! उससे परिचय होना भर है !
    फिर तो हम उसकी ओर एक कदम बढ़ाएँ वह स्वयं दौड़कर आता है मिलने । जीवन में इसी सत्य का अनुभव अनेकों बार हुआ है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके सुखद अनुभव को पढ़कर प्रसन्नता का अनुभव हो रहा है, स्वागत व आभर मीना जी !

      हटाएं