बुधवार, फ़रवरी 27

भारत


भारत

आज समरांगण बना शांति प्रिय यह देश !

अहिंसा परम धर्म, हिंसा इसे न भायी
हो विवश निज रक्षा हित बंदूक उठायी

युद्ध का मैदां बना अमन का यह देश !

‘अतिथि देवो भव’ कह आगत सत्कार किया
आतंकी जब बना हो विवश प्रहार किया

रक्त रंजित हुआ प्राचीनतम यह देश !

समिधा बना जीवन हवाएं भयीं शीतल
आहुति देती समर्थ वीरसेना प्रतिपल

गौरवान्वित हुआ यह कृष्ण वाला देश !


3 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 28.02.2019 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3261 में दिया जाएगा

    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  2. सच में क्रोष्ण का सन्देश गीता का सन्देश आज पुनः जागृत करने की जरूरत है ...
    देश के सही कदम लेने का समय ... उठने का समय है ...

    जवाब देंहटाएं