मंगलवार, मार्च 17

कोरोना ने दी दस्तक



कोरोना ने दी दस्तक 

हर दर्द कुछ सिखाता है 
सोते को जगाता है,
अंतहीन मांगों पर 
अंकुश भी लगाता है !

कोरोना ने दी दस्तक 
घूँट कड़वे पिलाता है,
अति सूक्ष्म दुश्मन यह 
नजर नहीं आता है !

कोशिकाओं में जाकर 
निज व्यूह रचाता है, 
फेफड़ों को दुर्बल कर 
रोगी को सताता है !

प्रकृति की सीख नई 
मन सीख कहाँ पाता है, 
गर्वीला, भोला भी ?
दुःख ही बनाता है !

खुद से जो दूर हुआ 
कहाँ यह निकल गया, 
भीतर ही चैन है 
भेद यह भुलाता है !

दौड़ अब यह शांत हो 
थमो, नहीं क्लांत हो, 
घर लौट चलो अब तो  
यह राज भी बताता है! 

साँझी है पीड़ा अब 
संवेदना जगाता है, 
दुनिया को सही माने
एक घर बनाता है !


14 टिप्‍पणियां:

  1. दुःख की घड़ी भी सबको एक कराना सिखाती है
    बहुत सही

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (18-03-2020) को    "ऐ कोरोना वाले वायरस"    (चर्चा अंक 3644)    पर भी होगी। 
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
     -- 
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'  

    जवाब देंहटाएं
  3. सांझी पीड़ा साझे खाते को एक बना देती है
    सीखना नहीं चाहते तो भी प्रकृति सीखा ही देती है।
    बहुत खूब। अच्छी और प्यारी सोच।
    नई रचना- सर्वोपरि?

    जवाब देंहटाएं


  4. आपकी लिखी रचना आज "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 18 मार्च 2020 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  5. सोशल मीडिया की जो कमी रह गई थी इस कोरोना ने पूरा कर दिया
    ग्लोब में देखा करते थे सीमांत को एक गाँव का हिस्सा बना गया
    सुंदर लेखन

    जवाब देंहटाएं
  6. साँझी है पीड़ा अब
    संवेदना जगाता है,
    दुनिया को सही माने
    एक घर बनाता है

    बहुत ही सुंदर संदेश देती सृजन अनीता जी ,सादर नमन

    जवाब देंहटाएं

  7. साँझी है पीड़ा अब
    संवेदना जगाता है,
    दुनिया को सही माने
    एक घर बनाता है !
    समसामयिक सुन्दर रचना ।शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  8. वाह!सुंदर संदेश देती हुई रचना ।

    जवाब देंहटाएं
  9. इस समय सब का साझा प्रयास बहुत ज़रूरी है ... सभी को अपना अपना अंश देना होगा ...

    जवाब देंहटाएं