सोमवार, मार्च 9

होली

होली

रंग भरे जीवन में जिसने 
हर इक पल उसकी होली है, 
संशय सभी जला डाले फिर
हर करवट हँसी ठिठोली है !

मन मतवाला भूल भी जाय 
कुदरत ले निकली टोली है, 
रंगों की भाषा जो जाने 
हर कदम जहाँ रंगोली है !

नीला अम्बर, रवि नारंगी 
मेघ सलेटी, पंछी श्वेत,
हरी घास पर पीली मैना 
रक्तिम पुष्प, सुनहरे खेत !

अग्नि की पीली ज्वाला में
बैर भाव सबके जल जाएँ, 
उर की गहराई में सोया 
शुभ आह्लाद पुनः जग जाये !

7 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब
    रंग हमारे जीवन में उत्साह व उमंग लाते है
    प्रकृति के रंगों का सुंदर वर्णन।
    नई पोस्ट - कविता २

    जवाब देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति।
    रंगों के महापर्व
    होली की बधाई हो।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपको भी होली की शुभकामनाएं शास्त्री जी

      हटाएं