शुक्रवार, जून 14

सुख उपहार जागरण का है

सुख उपहार जागरण का है



सुख की चादर के पीछे ही
छुपे हुए हैं कंटक दुःख के, 
लोभ किया आटे का जब-जब
फंस जाती मछली कांटे में !

स्वर्ग दिखाता, आस बंधाता
भरमाता जो अक्सर मन को
जब तक मन आतुर है सुख का
 छल जाता है दुःख जीवन को !

सुख तो ऊपर-ऊपर होता
 भीतर गहरे में इक दुःख है,
नाम इसी का जगत है जिसमें
सुख के नाम पे मिलता दुःख है !

कई रूप धर हमें लुभाता
बहुत मिलेगा सुख, कहता है,
एक बार जब फंस जाता मन
अहम् उसे चुप हो सहता है !

छोटी-छोटी भूलों पर भी
ना खुद को झुकने देता,
एक रेत का भवन खड़ा है
स्वयं ही कैसे गिरने देता !

कैसा माया जाल बिछा है
पीतल स्वर्ण का धोखा देता,
सुख उपहार जागरण का है
जो मंजिल पर ही जाकर होता !


16 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी कविता कविगुरु रविन्द्र नाथ की याद दिला दी.उन्होंने एक कविता में लिखा है कि जितना सुख के पीछे भागोगे उतना तुम्हारा दुःख बढता जायगा. यही भाव आपकी कविता में भी है -बहुत अच्छी है
    latest post: प्रेम- पहेली
    LATEST POST जन्म ,मृत्यु और मोक्ष !

    उत्तर देंहटाएं
  2. लोभ पर हमें शर्म नहीं आती ..
    मंगल कामनाएं आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार(15-6-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. वन्दना जी, बहुत बहुत आभार !

      हटाएं
  4. आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए आज 15/06/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक है http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी देख लीजिए एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. यशवंत जी, स्वागत व शुक्रिया..

      हटाएं
  5. कैसा माया जाल बिछा है
    पीतल स्वर्ण का धोखा देता,
    सुख उपहार जागरण का है
    जो मंजिल पर ही जाकर होता !

    ...बिल्कुल सच कहा है...बहुत सुन्दर और सटीक अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  6. जीवन..ऐसा ही होता है...सुंदर लि‍खा आपने

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कैलाश जी व रश्मि जी, स्वागत तथा शुक्रिया..

      हटाएं
  7. सुख पाने की आकांक्षा और उत्कंठा दुखों के रास्ते को कभी आसान भी बाना देती है.

    सुंदर भाव सुंदर अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  8. नाम इसी का जगत है जिसमें
    सुख के नाम पे मिलता दुःख है !

    कितना सुन्दर लिखा है अनीता जी ....गहन अभिव्यक्ति है ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. जब तक मन आतुर है सुख का
    छल जाता है दुःख जीवन को !
    sundar rachna..

    उत्तर देंहटाएं
  10. अर्थपूर्ण ..सुख उपहार है जागरण का...

    उत्तर देंहटाएं
  11. रचना जी, अनुपमा जी, अमृता जी, अशोक जी व रजनीश जी आप सभी का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं