बुधवार, अक्तूबर 14

देखो पल में कहाँ खो गया

देखो पल में कहाँ खो गया


बड़ी-बड़ी बातें करता था
पा के रहेंगे दम भरता था
था कितना दीवाना सा दिल
मुट्ठी में रेत भरता था !

बात-बात पर रूठा करता
घड़ी-घड़ी जो टूटा करता
था कितना अनजाना सा दिल
अपना दामन आप धो गया !

अपना कद ऊंचा करने की
ज्ञान निधि भीतर भरने की
तिकडम सदा लगाता जो दिल
स्वयं ही तो शून्य हो गया !

इसे बता दे उसे जता दे
इसे सिखा दे उसे धता दे
 इसी जोड़तोड़ में रहता
दिल बेचारा धूल हो गया !

मिटकर ही चैन पाया है
लौट के अपने घर आया है
एक बबूला ही तो था दिल
पल भर में ही हवा हो गया !

कितने ही दावे कर डाले
महल हवा में ही गढ़ डाले
पानी में दीवारें चुनता
अन्तरिक्ष में कहीं खो गया !


14 टिप्‍पणियां:

  1. दिल का इससे सुंदर वर्णन नहीं हो सकता....

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 15 - 10 - 2015 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2130 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुंदर वर्णन किया है आपने। चित्र भी अच्‍छा लगाया। मेरे ब्‍लाग पर आपका स्‍वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. यही तो एक शाश्वत सत्य है जिससे हम जानकर भी अनजान बने रहते हैं...बहुत सटीक और सारगर्भित प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अनजान बने रहकर ही दुःख के भागी होते हैं..आभार !

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. सही कहा है आपने प्रतिभा जी..

      हटाएं
  6. दिल कहो या मन उसकी गति ही न्यारी है .

    उत्तर देंहटाएं