बुधवार, जुलाई 4

राज खुलता जिंदगी का




राज खुलता जिंदगी का


एक उत्सव जिन्दगी का
चल रहा है युग-युगों से,
एक सपना बन्दगी का
पल रहा है युग युगों से !

घट रहा हर पल नया कुछ
किंतु कण भर भी न बदला,
खोजता मन जिस हँसी को
उसने न घर द्वार बदला !

झाँक लेते उर गुहा में
सौंप कर हर इक तमन्ना,
झलक मिलती एक बिसरी
राज खुलता जिंदगी का !

मिट गये वल्लि के पुतले
चंद श्वासों की कहानी,
किंतु जग अब भी वही है
है अमिट यह जिंदगानी !

9 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 5.7.2018 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3022 में दिया जाएगा

    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  2. ये उत्सव रो हाल पल है और इसका राचीयता जानता है इस खेल को ... हर पल जो भी घट रहा है हम उसके साक्षी हैं ... हम न भी हों रो भी ये चलता है पल पल ...
    गहरा चिंतन इस रचना में ... सुंदर ...

    जवाब देंहटाएं
  3. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार ६ जुलाई २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  4. अप्रतिम अतुलनीय।
    सुंदर भाव रचना अनिता जी गहराई समेटे!!

    जवाब देंहटाएं