बुधवार, फ़रवरी 12

जाने क्यों


जाने क्यों

फूलों के अंबार जहाँ हम काँटों को चुन लेते, सुंदरता की खान जहाँ कुरूपता हम बुन लेते ! देव जहां आतुर नभ में आशीषों से घर भरने, स्वयं को ही समर्थ मान लगते बाधा से डरने ! भेद जरा जाना होता इस अनंत जग में आकर, किसके बल पर टिका हुआ किसे रिझाते गा गाकर ! सुख की आशा में डोले झोली में दुःख भर जाता, ‘मन’ होने का ढंग यही कुछ ना उसे और आता !

12 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 13.02.2020 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3610 में दिया जाएगा । आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी ।

    धन्यवाद

    दिलबागसिंह विर्क

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में गुरुवार 13 फरवरी 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. सुख की आशा में डोले
    झोली में दुःख भर जाता,
    ‘मन’ होने का ढंग यही
    कुछ ना उसे और आता !
    बहुत ही बढ़िया सृजन, अनिता दी।

    जवाब देंहटाएं
  4. सुख की आशा में डोले
    झोली में दुःख भर जाता,
    ‘मन’ होने का ढंग यही
    कुछ ना उसे और आता !

    बहुत ही सुंदर रचना ,सादर नमन

    जवाब देंहटाएं
  5. वाह!!बहुत खूबसूरत सृजन 👌

    जवाब देंहटाएं