शनिवार, दिसंबर 28

कुदरत की रीत अनोखी है

कुदरत की रीत अनोखी है

जो खाली है वह भरा हुआ
जो कुछ भी नहीं वही सब कुछ,
कुदरत की रीत अनोखी है
जो लुटा रहा वह ही पाता !  

जो नयन मुँदे वे सब देखें
उस की यह कैसी चतुराई,
थम जाता जो वह ही पहुँचा
जो हुआ मौन सब कह जाता !

जो जाने कुछ वह क्या जाने
ज्ञानी बालक सम बन जाता,
पा लेता सब कुछ खोकर भी
यह राज न जगत समझ पाता !

जो दूर बहुत वह निकट अति
जो स्वयं से प्रीत करे न थके,
पाकर जिसको मन खो जाये
 फिर कौन यह भेद कहे जाता ! 

10 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर दर्शन … नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (29-12-2013) को "शक़ ना करो....रविवारीय चर्चा मंच....चर्चा अंक:1476" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    नव वर्ष की अग्रिम हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    सादर...!!

    - ई॰ राहुल मिश्रा

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुदरत के आगे सब मौन ही हो जाते हैं ...
    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. अनुपमा जी, दिगम्बर जी, संध्या जी, माहेश्वरी जी, ओंकार जी, गाफिल जी आप सभी का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  5. जु लुटा रहा वही पाता। ……… बहुत ही बढ़िया …... जो बचाकर रखेंगे उनसे छीन लिया जायेगा और जो लुटा देंगे उन्हें और दिया जायेगा |

    उत्तर देंहटाएं