सोमवार, दिसंबर 9

तुम


तुम

मैंने जान लिया है कि
दीपक की लौ को तुमने
हाथों से ओट दी है
आँधियों की परवाह न करते हुए
मुझे उसमें तेल डालते रहना है !

हृदय को मुक्त रखना है भय से
क्योंकि एक अदृश्य घेरा
बनाया है तुमने चारों ओर !

भीतर बाहर मुझे एक सा होना है
 क्योंकि तुम कभी गहरे उतर जाते हो
तकने लगते हो आकर सम्मुख
कभी अचानक !

7 टिप्‍पणियां:

  1. भीतर बाहर मुझे एक सा होना है
    क्योंकि तुम कभी गहरे उतर जाते हो
    तकने लगते हो आकर सम्मुख
    कभी अचानक !

    सुन्दर अभिव्यक्ति...
    सच्ची और गहरी....

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही गहन भाव की सुंदर प्रस्तुति .....

    उत्तर देंहटाएं
  3. गहन अनुभूति..मेरी नई पोस्ट 'आमा' में आप का स्वगत है..

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये जानना भी कितना सुखद है.. बस कभी भूल हावी न हो..

    उत्तर देंहटाएं
  5. रविकर जी, रंजना जी, माहेश्वरी जी, अमृता जी, पूनम जी व इमरान आप सभी का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं