मंगलवार, फ़रवरी 11

कुछ बातें दिल से

कुछ बातें दिल से


शिकायतें कर लीं बहुत जमाने से
सिर कहीं अब तो झुकाया जाये

बोझ ढोयें अच्छाइयों का कब तक
चलो औरों को बेहतर बताया जाये

नेकियाँ कर के भी रोये बुराई कर के भी
आखिर इन्सान को किस तरह हंसाया जाये

उमगती ख्वाहिशें सताती दिलोजान को
  किसी के दर पे उनको चढ़ाया जाये

नेमतें सौंप दे तो बढ़ती ही जाएँगी
कर के अर्पण दुःख को भी घटाया जाये

मुगालता हो गया हासिल कुछ करने का
वरना क्या है जो रब को दिखाया जाये

न कुछ अपना न कुछ हस्ती है हमारी
जान इस सच को जरा मुस्कुराया जाये



16 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी कृति बुधवार 12 फरवरी 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बोझ ढोयें अच्छाइयों का कब तक
    चलो औरों को बेहतर बताया जाये ....बहुत बढिया..

    उत्तर देंहटाएं
  3. न कुछ अपना न कुछ हस्ती है हमारी
    जान इस सच को जरा मुस्कुराया जाये
    इस सत्य को हर कोई कहाँ जान पाता है ... जानते हुए भी कहाँ मान पाता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुगालता हो गया हासिल कुछ करने का
    वरना क्या है जो रब को दिखाया जाये .... waah ... kya baat kahi hai .. laajawaab ashaar!

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुभानाल्लाह ..... हर शेर कितना कुछ कहता हुआ .... वाह

    उत्तर देंहटाएं
  6. गज़ल की क्या कहने हैं बेहतरीन भाव अर्थ और वक्रोक्ति रूपकत्व।

    उत्तर देंहटाएं
  7. जान-समझ कर अंततः मुस्कराहट आई तो चेहरे पर !

    उत्तर देंहटाएं
  8. न कुछ अपना न कुछ हस्ती है हमारी
    जान इस सच को जरा मुस्कुराया जाये
    सुन्दर प्रस्तुति.सुन्दर व्यंग.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत खूब कहा है जो भी कहा हर शैर नायाब। आफताब।

    उत्तर देंहटाएं
  10. माहेश्वरी जी, वीरू भाई, प्रतिभा जी, महेंद्र जी, प्रीति जी, प्रतिभा जी, इमरान, सुषमा जी शालिनी जी, विनय जी, दिगम्बर जी आप सभी का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं