शनिवार, नवंबर 29

मुट्ठी में सिमटी रेत ज्यों

मुट्ठी में सिमटी रेत ज्यों


हर कहानी है अधूरी
हर मन यहाँ कुछ खोजता,
रहता सदा अपूर्ण जग
मंजिल मिलेगी सोचता !

सीलें इधर सीलें उधर
पैबंद ही हैं हर तरफ,
पांव सिकोड़ें सिर खुले
धुंधले पड़ें जीवन हरफ !

मुट्ठी में सिमटी रेत ज्यों
थामें इसे, वह छूटता,
सोना नहीं पीतल था वह
हर भ्रम यहाँ है टूटता !

मिलती नहीं जग में कभी
जिस जीत की तलाश है
अपने ही भीतर झांक लें
खोलें उसे जो पाश है !


2 टिप्‍पणियां:

  1. पाश भी तो न जाने कितने है...अनगिनत भ्रम पाले।
    इस जकडन से मुक्ति ही आत्मा का सुकून है।
    सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहा है आपने अनिल जी, पहले उन पाशों को पहचानना होगा

      हटाएं