बुधवार, नवंबर 5

जन्मदिन पर

कल पिता का जन्मदिन है


उम्र हुई, तन करे शिकायत
कभी-कभी मन भी हो आहत,
लेकिन आत्मज्योति प्रज्वलित है
दिल में बसी ईश की चाहत !

अब भी दिनचर्या नियमित है
ब्रह्म मुहूर्त में उठ जाते,
पीड़ा हँस कर सहना आता
औरों को भी राह दिखाते !

प्रभु भजन से सुबह सँवरती
दिन भर ही अध्ययन चलता है,
सुर संगीत का साथ पुराना
जिससे संध्या काल ढलता है !

संतानों को स्नेह बांटते 
नाती-पोती संग मुस्काते,
निज नाम सार्थक करके
सदा सहाय बन कर रहते !

नानक ने जो राह दिखाई
सदा उसी पर चले हैं आप,
जन्मदिन पर लें बधाई
हमें आप पर है अति नाज !



7 टिप्‍पणियां:

  1. पिता जी को जनम दिन की बहुत बहुत शुभकामनायें ...
    कोमल, भावपूर्ण शब्दों से रचना को पिरोया है आपने ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. नानक ने जो राह दिखाई
    सदा उसी पर चले हैं आप,
    जन्मदिन पर लें बधाई
    हमें आप पर है अति नाज !
    ...गुरु नानक जयंती के शुभावसर पर जन्मदिन है आपके पिताजी जी यह तो बहुत अच्छा सुयोग हैं ...
    पिताजी को स्वस्थ जीवन की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  3. अति सुंदर। पिता जी का आशीर्वाद सदा मिलता रहे।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह...बेजोड़ भावाभिव्यक्ति


    गुरुपरब दियां सभ नूं लख लख बधाईयाँ.

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदरणीय अंकल जी को जन्मदिन की हार्दिक बधाई


    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. दिगम्बर जी, अनिल जी, कविता जी, देवेन्द्र जी,संजय जी व यशवंत जी आप सभी का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं