शुक्रवार, दिसंबर 19

मन को जरा पतंगा कर ले

मन को जरा पतंगा कर ले

तू ही मार्ग, मुसाफिर भी तू
तू ही पथ के कंटक बनता,
तू ही लक्ष्य यात्रा का है
फिर क्यों खुद का रोके रस्ता !

मस्ती की नदिया बन जा मिल
तू आनंद प्रेम का सागर,
कौन से सुख की आस लगाये
तकता दिल की खाली गागर !

सूर्य उगा है नीले नभ में
खिडकी खोल उजाला भर ले,
दीप जल रहा तेरे भीतर
मन को जरा पतंगा कर ले !

मन की धारा सूख गयी है
कितने मरुथल, बीहड़ वन भी,
राधा बन के उसे मोड़ ले
खिल-खिल जायेंगे उपवन भी !

एक पुकार मिलन की जागे
खुद से मिलकर जग को पाले,
सहज गूंजता कण कण में जो
उस पावन मुखड़े  को गाले !


10 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना शनिवार 20 दिसंबर 2014 को लिंक की जाएगी........... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. स्व-दर्शन ही तो सुदर्शन है गर कोई समझे तो सारी मृगमरिचीका खत्म हो चले ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  4. सूर्य उगा है नीले नभ में
    खिडकी खोल उजाला भर ले,
    दीप जल रहा तेरे भीतर
    मन को जरा पतंगा कर ले ...वाह..;क्‍या बात है..बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक पुकार मिलन की जागे
    खुद से मिलकर जग को पाले,
    सहज गूंजता कण कण में जो
    उस पावन मुखड़े को गाले !

    सुंदर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सकारात्मकता बहुत ही जरूरी है जीवन में. सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  7. निहार जी, अंकुर जी, रश्मि जी, ओंकार जी, यशवंत जी, आशा जी, अनिल जी आप सभी का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं