शुक्रवार, दिसंबर 12

इक अकुलाहट प्राणों में

इक अकुलाहट प्राणों में


इक दर्द की चाहत की है
जो मन को बेसुध कर दे,
कुछ कहने, कुछ न कहने
दोनों का अंतर भर दे !

इक पीड़ा मांगी उर ने
जो भीतर तक छा जाये,
फिर वह सब जो आतुर
है, आने को बाहर आये !

इक बेचैनी सी हर पल
मन में सुगबुग करती हो,
इस रीते अंतर्मन का
कुछ खालीपन भरती हो !

इक अकुलाहट प्राणों में
इक प्यास हृदय में जागे,
सीधे सपाट मरुथल में
चंचल हरिणी सी भागे !


13 टिप्‍पणियां:

  1. दर्द में ही अपने होने का अहसास होता है और किसी के होने का भी...अति सुन्दर कहा है..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अमृता जी, बहुत दिनों के बाद आपका आगमन हुआ है...स्वागत व आभार !

      हटाएं
  2. क्षमा याचना...आपकी लिखी रचना शनिवार 13 दिसंबर 2014 को लिंक की जाएगी........... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. छयावादी स्वर-लहरी की गूँज सुनाई दे रही है 1

    उत्तर देंहटाएं
  4. जीवन-दर्शन का मार्ग भी तो यही है. सुन्दर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर बिम्ब भाव रचना भाव संसार।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.....

    उत्तर देंहटाएं
  7. राजीव जी, निहार जी, वीरू भाई, मईड़ा जी, शांति जी, ओंकार जी, आप सभी का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं