शुक्रवार, सितंबर 8

एक अजब सा खेल चल रहा


एक अजब सा खेल चल रहा


इक ही धुन बजती धड़कन में
इक ही राग बसा कण-कण में,
एक ही मंजिलरस्ता एक
इक ही प्यास शेष जीवन में !

मधुरम धुन वह निज हस्ती की
एक रागिनी है मस्ती की,
एक पुकार सुनाई देती
दूर पर्वतों की बस्ती की !

मस्त हुआ जाये ज्यों नदिया
पंछी जैसे उड़ते गाते,
डोलें मेघा संग हवा के
बेसुध छौने दौड़ लगाते !

खुला हृदय ज्यों नीलगगन है
उड़ती जैसे मुक्त पवन है,
दीवारों में कैद न हो मन
अंतर पिय की लगी लगन है !

एक अजब सा खेल चल रहा
लुकाछिपी है खुद की खुद से,
मन ही कहता मुझे तलाशो
मन ही करता दूर स्वयं  से !

9 टिप्‍पणियां:

  1. क्या बात है !! जीवन दर्शन, व्यक्ति और उसके मन के दर्शन को कितने सुन्दर, छंदबद्ध ढंग से छूता गीत। बहुत ही सुन्दर। वास्तव में ऐसे गीतों की लंबी समीक्षा करते जाना का मन करता है, ऐसे हैं ये गीत।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुंदर शब्दों में प्रतिक्रिया के लिए आभार विकेश जी !

      हटाएं
  2. बहुत खूबसूरत भाव उभरे हैं। बधाई अनिता जी।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. स्वागत व आभार मीना जी, शुभकामनाएं !

      हटाएं
  3. बहुत गहरा दर्शन छुपा रहता है आपकी हर रचना में ... आशा और सादकी का एहसास जैसे जीवन की भोर का कोई स्वर ...

    उत्तर देंहटाएं