गुरुवार, जुलाई 9

इक अनंत आकाश छुपा है

इक अनंत आकाश छुपा है 

इक अनंत आकाश छुपा है 
ऋतु बासन्ती बाट जोहती, 
अंतर की गहराई में ही 
छिपा सिंधु का अनुपम मोती !

दिल तक जाना है दिमाग से 
भाव जगे, छूटें उलझन से, 
कुशल-क्षेम का राग मिटे अब 
मुक्ति पा लें सभी अभाव से !

मिटे नहीं जब खुद से दूरी
दिखे आवरण, उलझा आशय,
उस अनाम में अटल प्रीत हो 
कदम-कदम पर मिले आश्रय ! 



10 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार
    (10-07-2020) को
    "बातें–हँसी में धुली हुईं" (चर्चा अंक-3758)
    पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है ।

    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
  2. मिटे नहीं जब खुद से दूरी
    दिखे आवरण, उलझा आशय,
    सुन्दर कविता

    जवाब देंहटाएं
  3. उस अदृश्य अनाम से प्रीति हो जाए तो जीवन सँवर जाए . वाह

    जवाब देंहटाएं