मंगलवार, फ़रवरी 16

ताल-लय हर हृदय प्रकटे

ताल-लय हर हृदय प्रकटे 



गा रही है वाग देवी  
गूँजती सी हर दिशा है, 
शांत स्वर लहरी उतरती 
शुभ उषा पावन निशा है !

श्वेत दल है कमल कोमल 
श्वेत वसना वीणापाणि,
राग वासन्ती सुनाये 
वरद् हस्ता महादानी !

ज्ञान की गंगा बहाती
शांति की संवाहिका वह,
नयन से करुणा लुटाये 
कला की सम्पोषिका वह !

भा रही है वाग देवी 
सुन्दरी अनुपम सलोनी, 
भावना हो शुद्ध सबकी
प्रीत डोरी में पिरोनी ! 

जागे मेधा जब सोयी
अर्चना तब पूर्ण होगी,
ताल-लय हर हृदय प्रकटे 
साधना उस क्षण फलेगी !

22 टिप्‍पणियां:

  1. बसंत पंचमी की हार्दिक शुभ कामनाएं..
    बहुत सुंदर पंक्तियों से सजी बहुत सुंदर रचना..

    जवाब देंहटाएं
  2. माँ शारदे को नमन करते हुए सुन्दर रचना ... उनका आशीर्वाद रहे तो जीवन में सफलता मिलती है ...

    जवाब देंहटाएं
  3. अहा , कितनी सुंदर प्रार्थना । अपने ब्लॉग पर आपको पा कर हर्ष हुआ । आभार ।

    जवाब देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (17-02-2021) को  "बज उठी वीणा मधुर"   (चर्चा अंक-3980)   पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    -- 
    बसन्त पञ्चमी की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 
    --

    जवाब देंहटाएं
  5. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" बुधवार 17 फरवरी 2021 को साझा की गयी है.............. पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  6. सुन्दर निवेदन और प्रार्थना..अनोखी कृति..

    जवाब देंहटाएं

  7. बहुत ही सुंदर वंदना,
    माँ सरस्वती की कृपा हम सब पर बनी रहें

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर प्रार्थना
    कमाल का सृजन

    जवाब देंहटाएं
  9. आप सभी सुधीजनों का हृदय से स्वागत व आभार !

    जवाब देंहटाएं