गुरुवार, अगस्त 26

स्मृतियाँ

स्मृतियाँ

दिल के आँगन की मुंडेर पे, यादों की गौरैया चहकी
फूलों वाले इस मौसम में, मदमाती पुरवैया महकी I

स्मृतियों की चुनर ओढ़े, मन राधा ने गठरी खोली
बौर लदे आमों के वन में, इठलाती कोयलिया बोली I

सिंदूरी वह शाम सुहानी, बचपन जब हो गया विदा
कोई मेघ प्रीत बन बरसा, मन उस पर हो गया फ़िदा I

बाबा की वह हंसतीं आँखें, माँ का भीगा-भीगा प्यार
याद आ रहा बरसों पहले, छलका भैया का दुलार I

जीवन कितना बदल गया, मन का अलबम आज खुला
फेरे वाली साड़ी का पर, अब तक नहीं है फाल खुला I

२६ अगस्त २०१०

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें