शुक्रवार, नवंबर 9

सब घटता है सहज यहाँ


सब घटता है सहज यहाँ


रात ढली, दिन उगा
बोलो किसको श्रम हुआ,
हवा बही सुरभि लिए
बोलो किसने दाम दिए !

शिशु जन्मा, पांव चला
किसने उसको खड़ा किया,
कली खिली, पुष्प बना
किसने रंग उड़ेल दिया !

नदी बही, सिंधु मिला
किसने उसका मार्ग गढ़ा,
सलिल उठा, मेघ बना
किसने उसको गगन दिया !

सब घटता है सहज यहाँ
मात्र यहाँ होना होता है,
होने में भी श्रम न कोई
बस खुद को मिटना होता है !

मिटना भी तो सहज घटे
जीवन का रहस्य मृत्यु है,
उससे ही सौंदर्य मिलता
वही मात्र परम सत्य है !




15 टिप्‍पणियां:

  1. सब घटता है सहज यहाँ
    मात्र यहाँ होना होता है,
    होने में भी श्रम न कोई
    बस खुद को मिटना होता है !

    बहुत खूब....

    उत्तर देंहटाएं
  2. सत्यम ....शिवम ....सुंदरम .... वही सत्य है॥

    उत्तर देंहटाएं
  3. सब घटता है सहज यहाँ
    मात्र यहाँ होना होता है,
    होने में भी श्रम न कोई
    बस खुद को मिटना होता है !
    सही कहा

    उत्तर देंहटाएं
  4. परम सत्य को हार्दिक नमन..

    उत्तर देंहटाएं
  5. जीवन का यही क्रम है, और जीवन-दर्शन भी यही !

    उत्तर देंहटाएं
  6. पूनम जी, वन्दना, प्रतिभा जी, अमृता जी, संगीता जी व पूनम जी आप सभी का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही सुन्दर अंतिम दोनों तो लाजवाब ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सराहनीय प्रस्तुति.
    बहुत सुंदर बात कही है इन पंक्तियों में. दिल को छू गयी. आभार !
    बेह्तरीन अभिव्यक्ति .बहुत अद्भुत अहसास.सुन्दर प्रस्तुति.
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये आपको और आपके समस्त पारिवारिक जनो को !

    मंगलमय हो आपको दीपो का त्यौहार
    जीवन में आती रहे पल पल नयी बहार
    ईश्वर से हम कर रहे हर पल यही पुकार
    लक्ष्मी की कृपा रहे भरा रहे घर द्वार..

    उत्तर देंहटाएं
  9. मिटना भी तो सहज घटे
    जीवन का रहस्य मृत्यु है,
    उससे ही सौंदर्य मिलता
    वही मात्र परम सत्य है !
    वाकई परम सत्य.......
    नीचे दिए लिंक पर जरूर आएं और अवगत कराएं.....
    http://veenakesur.blogspot.in/


    उत्तर देंहटाएं
  10. ईश्वर ही सत्य है ....बहुत सही

    शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  11. इमरान, धीरेन्द्र जी, वीना जी, संध्या जी, अनु जी, मदन जी व प्रकाश जी आप सभी का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं