सोमवार, नवंबर 12

“इक काव्य रचा जाता है पल पल इस सृष्टि में “


इक काव्य रचा जाता है
पल पल इस सृष्टि में


जाने कहाँ से आ रही
खुशबू रुहानी सी !

तन मन डुबोए जा रही
खुशबू सुहानी सी !

मदमस्त यह आलम हुआ
खुशबू है जानी सी !

नासपुटों में भर रही
खुशबू पुरानी सी !

जाने से पहले रख गया
खुशबू निशानी सी !

रग-रग में बहे रक्त सी
खुशबू रवानी सी !

यादों के तार छेड़ गयी
खुशबू कहानी सी !

आयी नहीं जब राह तकी
खुशबू है मानी सी !

7 टिप्‍पणियां:

  1. बस खूशबू ही खूशबू बसी है ... सुंदर अभिव्यक्ति

    दीपावली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर.. दीपावली की अनंत शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर.....आपको भी दीपावली की बहुत शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब...
    दिवाली की अनंत शुभकामनाएँ...

    सादर |

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर...आपको सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  6. संगीता जी, इमरान, माहेश्वरी जी, सुषमा जी, मंटू जी, कैलाश जी अप सभी का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं