शुक्रवार, अप्रैल 26

ऐसी हो अपनी पूजा


ऐसी हो अपनी पूजा


लक्ष्य परम, हो मन समर्पित
 हृदयासन पर वही प्रतिष्ठित !

शांतिवेदी, ज्ञानाग्नि प्रज्वलित
भावना लौ, प्रेम पुष्प अर्पित !

पुलक जगे अंतर, उर प्रकम्पित
सहज समाधि, अश्रुधार अंकित !

छंटें कुहासे, करें ज्योति अर्जित
आनंद प्रसाद पा, बीज प्रस्फुटित !

मिले समाधान, लालसा खंडित
सुन-सुन धुन, मन प्राण विस्मित !

अव्यक्त व्यक्त कर, अंतर हर्षित
दृष्टा को दृश्य बना, आत्मा शोभित 

11 टिप्‍पणियां:

  1. अव्यक्त व्यक्त कर, अंतर हर्षित
    दृष्टा को दृश्य बना, आत्मा शोभित

    ...बहुत सुन्दर और गहन अभिव्यक्ति...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्तर
    1. प्रतिभा जी, आपने सही कहा,मति स्थिर होने पर ही समाधान मिलता है

      हटाएं
  3. बहुत सुन्दर.....
    मन आनंदित हुआ....

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर..अति सुन्दर...ऐसी ही हो अपनी पूजा..

    उत्तर देंहटाएं