बुधवार, अप्रैल 10

जैसे कोई दीप जला हो


जैसे कोई दीप जला हो



प्रीत पुरानी युगों-युगों की
याद दिलाये उस बंधन की,
रास रचाया था जब मिलकर
छवि भर ली थी कमल नयन की !

फिर जाने क्यों हुआ विछोह
जकड़ गया था मन को मोह,
भुला ही दिया सुख स्वप्नों को
स्वयं से ही कर डाला द्रोह !

एक घना आवरण ओढ़े
जीवन था सुख से मुख मोड़े,
दिल को किसी तरह बहलाते
दूजों के कितने दिल तोड़े !

पीड़ा लेकिन क्यों कर भाती
बार-बार कुछ स्मरण दिलाती,
भूले हुए किसी सुदिन का
रह-रह नींद में स्वप्न दिखाती !

तब उसने संदेशा भेजा
सिर आँखों पर जिसे सहेजा,
किया कुबूल निमंत्रण उसका
जिसको युगों से न था देखा !

जैसे कोई दीप जला हो
बहुत पुराना मीत मिला हो,
ऐसे अपनाया है उसने
जैसे उत्पल कहीं खिला हो !

19 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर प्रस्तुति-
    शुभकामनायें-

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्तर
    1. मंटू जी, रविकर जी व कालीपद जी सुस्वागत व आभार !

      हटाएं
  3. जैसे कोई दीप जला हो
    बहुत पुराना मीत मिला हो,
    ऐसे अपनाया है उसने
    जैसे उत्पल कहीं खिला हो !


    बहुत सुन्दर ,अप्रतिम ,रागात्मक रचना प्रकृति परमात्म प्रेम से संसिक्त .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. वीरू भाई, बहुत बहुत शुक्रिया..

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. माहेश्वरी जी, व मानव जी, स्वागत व आभार !

      हटाएं
  5. प्यारे शब्द बहुत सुन्दरता से रचे हुए.

    उत्तर देंहटाएं
  6. जैसे कोई दीप जला हो
    बहुत पुराना मीत मिला हो,

    बहुत बहुत सुन्दर ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. निहार जी व इमरान, ऐसे ही आते रहिये इस पोस्ट पर...स्वागत है..

      हटाएं
  7. जैसे कोई दीप जला हो
    बहुत पुराना मीत मिला हो,
    ऐसे अपनाया है उसने
    जैसे उत्पल कहीं खिला हो !

    अनुभूत की सशक्त गीतात्मक अभिव्यक्ति .

    उत्तर देंहटाएं
  8. खिले उत्पल का सुवास मदमस्त कर रहा है..

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुंदर शब्दों में नेक ख्याल.

    नवसंवत्सर की शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  10. वीरू भाई, देवेन्द्र जी, अमृता जी व रचना जी आप सभी का स्वागत व आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  11. दीप पर्व आपको सपरिवार शुभ हो !

    कल 03/11/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं