रविवार, अक्तूबर 13

बहे उजाला मद्धिम-मद्धिम

बहे उजाला मद्धिम-मद्धिम


बरस रहा है कोई अविरत
 झर-झर झर-झर, झर-झर झर-झर
भीग रहा न कोई लेकिन
ढूँढे जाता सरवर, पोखर !

प्रीत गगरिया छलक रही है
 युगों-युगों से सर-सर सर-सर,
प्यासे कंठ न पीते लेकिन
 अकुलाये से खोजें निर्झर !

ज्योति कोई जले निरंतर
बहे उजाला मद्धिम-मद्धिम,
राह टटोले नहीं मिले पर  
अंधकार में टकराते हम !

6 टिप्‍पणियां:

  1. राह टटोले नहीं मिले पर
    अंधकार में टकराते हम !
    सुन्दर !
    अभी अभी महिषासुर बध (भाग -१ )!

    उत्तर देंहटाएं
  2. अति सुन्दर भाव की सशक्त रचना गीतात्मक प्रस्तुति भाव की राग सदृश्य।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर गीत.....

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रीत गगरिया छलक रही है
    और भींग रहा है तन-मन..
    अति सुन्दर..

    उत्तर देंहटाएं
  5. कालीपद जी, वीरू भाई, अनु जी व अमृता जी आप सभी का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं