बुधवार, नवंबर 30

नन्हा रजकण सृष्टि समेटे


नन्हा रजकण सृष्टि समेटे


बाशिंदा जो जिस दुनिया का
गीत वहीं के ही गायेगा,
अम्बर में उड़ने वाला खग
गह्वर में क्या रह पायेगा !

उस अनंत स्रष्टा का वैभव
देख-देख झुक जाता अंतर,
जाने कितने रूप धरे हैं
तृप्त नहीं होता रच-रच कर !

स्वयं तो शांत सदा एकरस
कोटि-कोटि ब्रह्मांड रचाए,
भीतर भर दी चाह अनोखी
देख-देख भी उर न अघाये !

रंगों की ऐसी बरसातें
खुशबू के फव्वारे छोड़े,
रसमय उस प्रियतम ने देखो
छेड़ दिये हैं राग व तोड़े !

कुछ भी यहाँ व्यर्थ न दीखे
नन्हा रजकण सृष्टि समेटे,
तृण का इक लघु पादप देखो
सुख अपनी गरिमा में लपेटे ! 

22 टिप्‍पणियां:

  1. रसमय उस प्रियतम ने देखो
    छेड़ दिये हैं राग व तोड़े !

    sunder rag aur tode bhi ...
    shubhkamnayen

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बहुत आभार ||

    सुन्दर प्रस्तुति ||

    कुछ भी यहाँ व्यर्थ न दीखे ||

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही कहा …………अजब तेरी कारीगरी करतार्…………रसमय बनाया तूने ह्रदयतार

    उत्तर देंहटाएं
  4. उस अनंत स्रष्टा का वैभव
    देख-देख झुक जाता अंतर,
    जाने कितने रूप धरे हैं
    तृप्त नहीं होता रच-रच कर !

    ...बहुत भक्तिमयी अभिव्यक्ति...उसकी कारीगरी अनंत और अद्भुत है..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत कुछ कहती है आपकी रचना.....

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर अति सुंदर
    लयबद्धता किसी को भी आकर्षित कर सकती है
    मज़ा आया पढ़कर

    उत्तर देंहटाएं
  7. अनुपमा जी, रविकर जी, वन्दना जी,सुषमा जी, महेंद्र जी, कैलाश जी, नवीन जी,यशवंत जी आप सभी का बहुत बहुत आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  8. स्वयं तो शांत सदा एकरस
    कोटि-कोटि ब्रह्मांड रचाए,
    भीतर भर दी चाह अनोखी
    देख-देख भी उर न अघाये !

    रंगों की ऐसी बरसातें
    खुशबू के फव्वारे छोड़े,
    रसमय उस प्रियतम ने देखो
    छेड़ दिये हैं राग व तोड़े !
    ....
    अरे दी !..मन कर रहा है नाच उठूँ सच में आप को नमन...कह नहीं पाउँगा कितना डूबा दिया आपने !

    उत्तर देंहटाएं
  9. आनंद जी, नाचने की बात पर, आप आज की पोस्ट पढ़ें और खूब नाचें...

    उत्तर देंहटाएं
  10. उस अनंत स्रष्टा का वैभव
    देख-देख झुक जाता अंतर,
    जाने कितने रूप धरे हैं
    तृप्त नहीं होता रच-रच कर !


    स्वयं तो शांत सदा एकरस
    कोटि-कोटि ब्रह्मांड रचाए,
    भीतर भर दी चाह अनोखी
    देख-देख भी उर न अघाये

    "शब्द तुम्हारे गीत हमारे,कैसे कोई गा सकता है !
    नाच उठे ये जग सारा यूँ,भाव कोई बिखरा सकता है...!!"

    बस नि:शब्द हूँ............

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह बहुत सुंदर पंक्तियाँ !
    बेहतरीन और बेजोड़ रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  12. कुछ भी यहाँ व्यर्थ न दीखे
    नन्हा रजकण सृष्टि समेटे,
    तृण का इक लघु पादप देखो
    सुख अपनी गरिमा में लपेटे !

    गहन आध्यात्मिक रंग में रची बसी रचना है अनीता जी ! बहुत आनंद मिला आज इस रचना को पढ़ कर ! बधाई एवं आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह वाह....
    बहुत सुन्दर आनंदप्रद गीत...
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  14. .


    आदरणीया अनिता जी
    सादर प्रणाम !

    इतना सुंदर गीत ! मन भीग गया -
    उस अनंत स्रष्टा का वैभव
    देख-देख झुक जाता अंतर,
    जाने कितने रूप धरे हैं
    तृप्त नहीं होता रच-रच कर !

    स्वयं तो शांत सदा एकरस
    कोटि-कोटि ब्रह्मांड रचाए,
    भीतर भर दी चाह अनोखी
    देख-देख भी उर न अघाये !

    रंगों की ऐसी बरसातें
    खुशबू के फव्वारे छोड़े,
    रसमय उस प्रियतम ने देखो
    छेड़ दिये हैं राग व तोड़े !

    वास्तव में हम कितना भी श्रेष्ठ लिखें … परम आनंदानुभूति परमात्मा की आराधना में शब्द-पुष्प समर्पित करने में ही होती है…
    नमन ! वंदन ! उस अनंत स्रष्टा को ! … और आपकी लेखनी को ! आपको !!

    आभार और मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  15. उस अनंत स्रष्टा का वैभव
    देख-देख झुक जाता अंतर,
    जाने कितने रूप धरे हैं
    तृप्त नहीं होता रच-रच कर
    bahut bhaw purn rachna aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  16. ममता जी, राजेन्द्र जी, अनामिका जी, संजय जी, साधना जी, अमृता जी, शिखा जी, संतोष जी व पूनम जी आप सभी का हृदय से आभार!

    उत्तर देंहटाएं