शुक्रवार, सितंबर 4

कृष्ण जन्माष्टमी पर

कृष्ण जन्माष्टमी पर

काल सुहाना बन आया था
भादों की अष्टमी आयी,
जगी दिशाओं में भी आशा
मंगलमयी भूमि हर्षाई !

नदियाँ भी आनंद से भरीं
सरवर खिले उत्प्लों से थे,
अग्नि प्रज्वलित हुई प्रसन्न हो,
वायु भरी स्नेह सुरभि से !

कारागार में जन्मे थे स्वयं
मुक्त किया जग भव बन्धन से
था नक्षत्र रोहिणी पावन
प्रकटे रस नन्द नन्दन थे !

थी मध्य रात्रि घोर अँधेरा
बनकर आये ज्यों दिनमान,
अद्भुत रूप धरा कृष्णा ने
कोमल काया कमल समान !

कानों में झिलमिल कुंडल
मोर पंख केशों में सज्जित,
अंग-अंग है सुंदर जिसका
ऐसे श्यामल महिमा मंडित !

दिव्य जन्म व कर्म दिव्य हैं
मुरली मनोहर मधुमय कृष्णा,
मिलन और विरह दोनों में
याद भी उनकी सुख स्वरूपा !

6 टिप्‍पणियां:

  1. सचमुच निराले हैं यह भगवान और अच्छी है आपकी कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर गीत से कान्हा का स्वागत. जन्माष्टमी कि बहुत बहुत शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर व सार्थक रचना ..
    मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका स्वागत है...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही मनहारी चित्रण...बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  5. निहार जी, रचना जी, शांति जी व कैलाश जी आप सभी का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं