शुक्रवार, सितंबर 11

एक और अनेक


एक और अनेक

जैसे आकाश एक बाहर है चहुँ ओर
वैसा ही भीतर है..
जिसमें चमकता है एक सूरज
मन के पानियों को जो
उड़ा ले जाता है द्युलोक में
भाव सुगंध भरे
फिर बरस जाती है धारा तृप्ति की
तन की माटी लहलहाने लगती है
बाहर और भीतर का आकाश
कहने को ही दो हैं
वैसे ही जैसे बाहर और भीतर का सूरज
एक पानी से दूसरे का गहरा नाता है
और पुष्प की गंध से भाव सुगंधि का
एक ही है जो अनंत होकर जीता है
पल-पल की खबर रखता वह जादूगर
जाने कैसे यह खेल रचता है ! 

9 टिप्‍पणियां:

  1. जितना कुछ बाहर दिखता उतना ही सब कुछ भीतर होता है सिर्फ महसूस करने कि आवयश्कता होती है
    गहन भाव सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  2. वैसे ही जैसे बाहर और भीतर का सूरज
    एक पानी से दूसरे का गहरा नाता है
    सच है गहरा नाता ही तो है

    उत्तर देंहटाएं
  3. अतिसुन्दर काव्य जिसमें सृष्टि का एक रहस्य जो अपना आवरण थोड़ा सा हटा रहा है और हमें आनंद में डुबा रहा है .

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस एकात्म का अनुभव ही आनंद का स्रोत है...बहुत सुन्दर और प्रभावी अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  5. जे जे पिंड़े सोई ब्रह्मांडे - वास्तविकता यही है .

    उत्तर देंहटाएं