मंगलवार, जनवरी 10

सर्दियों की धूप


सर्दियों की धूप 

धूप कहाँ है 
चलो उसे ढूँढ़ते हैं
भिनसार में आती है सोने वाले कमरे की खिड़की  से 
और दीवार पर एक चमकता हुआ रौशनी का टीका भर लगाती है 
जब पिछले बरामदे से है झाँकता है बाल सूर्य 
कुछ देर बाद धरा घूम जाती है जब 
पूजा के कमरे की खिड़की से छन छन कर आती है
नीला कारपेट चमकने लगता है धूप में
वह चाहती है पल भर धूप में बैठना 
पर सुबह का वक्त होता है भाग-दौड़ का 
दोपहर को धूप कुछ देर ही आती है पीछे वाली खिड़की से 
फर्श पर बन जाता है आायताकार
उसमें बैठना हो तो बैठे कोई सिकोड़ कर बदन 
शाम होने से पहले ही सूरज बढ़ गया होता है आगे 
घर की किसी खिड़की दरवाजे तक उसकी पहुँच नहीं
तब बाहर निकल आती है वह 
जहाँ पूरे लॉन में बिछी है धूप नर्म चादर की तरह 
चाहो तो सो जाओ  
या ओढ़ लो  नर्म दुलाई की तरह !

5 टिप्‍पणियां:

  1. जितनी देर में ओढने का उपक्रम करेंगे वह और सिमट जायेगी ,ऐसी है सर्दी की धूप .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहा है अपने प्रतिभा जी, बड़ी जल्दी भाग जाती है सर्दियों की धूप..

      हटाएं
  2. आज कल तो इस धुप की चादर की जरूरत और बढ़ गयी है ...
    नर्म धूप की सुहानी रचना ....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. स्वागत व आभार दिगम्बर जी..

      हटाएं
  3. सच में , सर्दियों में जैसे धूप में ही प्राण बस जाता है ।

    उत्तर देंहटाएं