बुधवार, जनवरी 4

नींद और जागरण

नींद और जागरण 


खुद का पता भी अक्सर गैरों से पूछते हैं
जाहिर सी बात है कि अब तक भटक रहे  हैं 

ऊँगली जरा दिखायी मुरझाया दिल कमल 
खिल जाये कैसे फिर से तरकीब पूछते हैं 

सपने सजाये रहते दिल की पनाहगाह में 
सच दूसरे करेंगे भ्रम ऐसे पालते हैं 

अपनी खबर नहीं है जग का हिसाब रखते
इक नींद ले रहे हैं लगता है जागते हैं 

7 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 05-01-2017 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2576 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार दिलबाग जी !

      हटाएं
  2. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन जन्मदिवस ~ कवि गोपालदास 'नीरज' और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार हर्षवर्धन जी !

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. स्वागत व बहुत बहुत आभार सुशील जी !

      हटाएं
  4. Bhut achhi kavita likha hai apne, is kavita ko book ka roop dene ke liye hme visit kre:https://www.onlinegatha.com/

    उत्तर देंहटाएं