गुरुवार, जनवरी 5

घर का पता


घर का पता 


भूल गये हैं अपने घर का पता 
और पूछना भी नहीं चाहते
ऐसा नहीं कि शर्माते हैं 
कोई अपना घर भी है  
यह भी नहीं जानते 
 भटकते इधर-उधर
पड़ावों में रातें बिताते
 याद ही नहीं आती  घर की
खानाबदोश की तरह 
कंधों पर उठाये रहते हैं तम्बू 
और रातों को तारे गिनते
नींद में कुनमुनाते !






3 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन ब्लॉग बुलेटिन - हमारे बीच नहीं रहे बेहतरीन अभिनेता ~ ओम पुरी में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बहुत आभार हर्षवर्धन जी !

    उत्तर देंहटाएं