बुधवार, जुलाई 5

थामता है हर घड़ी वह


थामता है हर घड़ी वह

बूँद बनकर जो मिला था
सिंधु सा वह बढ़ा आता,
रोशनी की इक किरण था
बन उजाला पथ दिखाता !

थामता है हर घड़ी वह
जो बरसता प्रीत बनकर,
खोल देता द्वार दिल के
फिर सरसता गीत बनकर !

हर नुकीली राह को भी
मृदु गोलाई में बदले,
कंटकों से जो भरी थी
मधु अमराई में बदले !

बस गया है आज दिल में
डाल डेरा और डंडा,
दूर से जो था पुकारे
मिल गया उसका ठिकाना !


7 टिप्‍पणियां:

  1. सतत ईश्वर की ओर ले जाती मन की निर्मल अभिव्यक्ति !! अद्वितीय काव्य !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. ठिकाना मिल जाये तो फिर क्या चाहिए भक्ति भाव से परिपूर्ण रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. थामता है हर घड़ी वह
    जो बरसता प्रीत बनकर,
    खोल देता द्वार दिल के
    फिर सरसता गीत बनकर !
    उम्दा ! सुन्दर अभिव्यक्ति ,कोमल भावनायें आदरणीय अनीता जी आपकी रचना हृदय तक झंकार करती है आभार। "एकलव्य"


    उत्तर देंहटाएं
  4. ​​सुंद​​र रचना......बधाई|​​

    आप सभी का स्वागत है मेरे ब्लॉग "हिंदी कविता मंच" की नई रचना #वक्त पर, आपकी प्रतिक्रिया जरुर दे|

    http://hindikavitamanch.blogspot.in/2017/07/time.html

    ​​

    उत्तर देंहटाएं