शुक्रवार, जुलाई 28

थम जाता सुन मधुर रागिनी

थम जाता सुन मधुर रागिनी

कोमल उर की कोंपल भीतर
खिलने को आतुर है प्रतिपल,
जब तक खुद को नहीं लुटाया
दूर नजर आती है मंजिल !

मनवा पल-पल इत-उत डोले
ठहरा आहट पाकर जिसकी,
जैसे हिरण कुलाँचे भरता
थम जाता सुन मधुर रागिनी !

जिसके आते ही उर प्रांगण
देव वाटिका सा खिल जाता,
हौले-हौले कदम धरे जब
मन नव कुंदन बन मुस्काता !

स्वयं ही दूर-दूर रहे हम
दुःख छाया में जन्मों बीते,
सुख बदली बन वह आता है
एक पुकार उठे अन्तर से !

रह ना पाए अनुपम प्रेमिल
पावन है वह करता पावन,
अर्पित मन को करना होगा
युग-युग से हो रहा अपावन !

आह्लादित है सृष्टि प्रतिपल
खिला हुआ वह नील कमल सा,
धरे धरा बन छाँव गगन की
पंछी सा नव सुर में गाता !

कोई उसका हाथ थाम ले
बरबस कदमों में झुक जाये,
दूरी नहीं भेद नहीं शेष
तृप्त हुआ सा डोले गाये !


16 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय आपकी रचना उत्तम दर्जे की है ,कोमल भाव हृदय में एक तरंग उत्पन्न करतीं हैं
    आभार ''एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. स्वागत व बहुत बहुत आभार ध्रुव जी !

      हटाएं
  2. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत आभार हर्षवर्धन जी !

      हटाएं
  3. बहुत ही सुंदर रचना है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच में जब तक हम अपने स्व को विसर्जित नहीं करते, पास होते हुए भी कितनी दूर हो जाते चिर आनंद से...बहुत मनभावन और प्रभावी अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपने सही कहा है, हम स्वयं को पकड़े रहते हैं और परम से दूर हो जाते हैं. स्वागत व आभार

      हटाएं
  5. कुछ पाने को कुछ विस्मृत करना होता है ...
    बहुत ही भावपूर्ण रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. खाली मन में ही सुख की वर्षा होती है..स्वागत व आभार दिगम्बर जी !

      हटाएं
  6. वाह वाह बहुत ही सुन्दर........अंतिम वाले से पूर्णतया सहमत नहीं हूँ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. स्वागत व आभार संजय जी...अंतिम का अनुभव होने के बाद ही प्रथम का दर्शन होता है..सत्य तो यही है सहमत होना या न होना आप की स्वतन्त्रता है..

    उत्तर देंहटाएं
  8. हम भी तो खिलने को आतुर हैं प्रतिपल ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जो आतुर है वह खिल ही गया..बधाई !

      हटाएं