शुक्रवार, अगस्त 3

मोहन की हर अदा निराली




मोहन की हर अदा निराली


माधव केशव कृष्ण मुरारी
अनगिन नाम धरे हैं तूने,
ज्योति जलाई परम प्रेम की
अंतर घट थे जितने सूने !

दिया सहज प्रेम आश्वासन
युग-युग में कान्हा प्रकटेगा ,
सुप्त चेतना दबी तमस में
हर बंधन से मुक्त करेगा !

सच की आभा सुहृद बिखेरे
अनुपम प्रतिमा सुन्दरता की,
हर उर में रसधार उड़ेले
  हर अदा निराली मोहन की !

वृन्दावन भू रज पावन है
परम सखा बन रास रचाए,
विरह अनवरत मिलन बना है
नाता स्नेहिल सदा निभाए !

दिव्य जन्म शुभ कर्म अनेकों
हैंं अनंत गाथाएं तेरी,
सुन-सुन अश्रु बहे नयनों से
जाने कितनी छवि उकेरीं !



6 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, चैन पाने का तरीका - ब्लॉग बुलेटिन “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत बहुत आभार शिवम जी !

    जवाब देंहटाएं
  3. कृष्णा के अनेक रूप और हर रूप मन को मोहता है ... आध्यतम को प्रेरित करता है ..।
    बहुत ही रुहानी रचना ... सिल में उतरती है ...

    जवाब देंहटाएं