बुधवार, अगस्त 8

खुले आकाश सा




खुले आकाश सा



सवाल बन के जगाये कई रातों को
 जवाब बनकर एक दिन वही सुलाता है
 ढूँढने में जिसे बरसों गुजारे
वही हर रोज तब आकर जगाता है
जिसकी चाहत में भुला दिया जग को
 जग की हर बात में नजर आता है
छुपा हुआ है जो हजार पर्दों में
खुले आकाश सा दिपदिपाता है
मांगते फिरते हैं जिससे सुखों की दौलत
बेहिसाब वह रहमतें बरसाता है !  



8 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 9.8.18 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3058 में दिया जाएगा

    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन 78वां जन्म दिवस - दिलीप सरदेसाई और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. और इस अनजान ईश्वर को हम नमस्कार भी न करें ... ये तो उचित नहीं ...
    कान कान में मौजूद और उसकी रहमत को अगर हम देख सकें महसूस कर सकें यही तो जीवन को सफल बनाएगा ... सुंदर रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहा है आपने, वह नजर मिल जाये जो रूप के पीछे अरूप को देखती है..

      हटाएं