बुधवार, दिसंबर 9

मन और मौन

मन और मौन
शब्दों की गलियों में गोल घूमता है
मन का मयूर यह व्यर्थ ही झूमता है
 
अनंता-अनंत जो चहुँ ओर व्याप्त रहा
नाप लिया हो जैसे ‘अम्बर’ नाम दिया
 
‘मन’ भी आकाश सा कोई न माप सका
स्वयं सीमित होकर शब्द आकार लिया
 
शब्द अभी पीड़ा दें पल में सहला दें
स्वयं ही रचे मन शब्दों से बहला दे
 
नाम-रूप भरम में नाम ही बंधन है
मौन आश्रय जिसे पार ही चिरंतन है  

12 टिप्‍पणियां:

  1. नाम-रूप भरम में नाम ही बंधन है
    मौन आश्रय जिसे पार ही चिरंतन है
    बहुत सही

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 10.12.2020 को चर्चा मंच पर दिया जाएगा| आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी|
    धन्यवाद
    दिलबागसिंह विर्क

    जवाब देंहटाएं
  3. सुन्दर और सारगर्भित पंक्तियाँ..।

    जवाब देंहटाएं